Home / Tag Archives: anushka sharma

Tag Archives: anushka sharma

ZERO Movie Review by Deepak Dua

ZERO Movie Review by Deepak Dua रिव्यू-धुएं की लकीर छोड़ती ‘ज़ीरो’ -दीपक दुआ… पहले ही सीन में जब मेरठ का बउआ सिंह अखबार की एक खबर सुनाने के एवज में अपने दोस्तों पर 500 रुपए के नोटों की पूरी गड्डी लुटा देता है तो पता चल जाता है कि आप …

Read More »

Pari Movie Review

Pari: Not a Fairytale Movie Review  |3/5|   रिव्यू-‘परी’-कथा नहीं व्यथा है -दीपक दुआ…  किसी हाॅरर फिल्म से आखिर हमें क्या उम्मीद होती है? यही न कि उसमें कोई बुरी आत्मा होगी जो किसी के शरीर में घुस जाएगी। फिर वो उसे और उसके आस पास वालों को चैन से जीने नहीं देगी।कोई तांत्रिक, ओझा, पंडित, पादरी टाइप का बंदा आएगा। तंतर-मंतर होंगे, खून-खराबा होगा, फिर सब सही हो जाएगा।चलते-चलते एक सीन ऐसा भी आएगा कि फिल्म का सीक्वेल बन सके। पहले राम से भाइयों और इधर विक्रम भट्ट ने हमें हाॅरर फिल्मों के नाम पर जो अफीम चटाई है उसके नशे में हम किसी हाॅरर फिल्म से इससे कुछ हट कर दिखाने की उम्मीद भी नहीं करते हैं। यही कारण है कि अपने यहां हाॅरर के नाम पर सुपर नेचुरल चीजें ही ज्यादा आती हैं,साइक्लाॅजिकल नहीं। कोई रामगोपाल वर्मा इस रास्ते पर चलना भी चाहता है तो किनारे कर दिया जाता है। खैर, अनुष्का शर्मा की यह फिल्म ‘परी’ हमें एक अलग ही दुनिया में ले जाती है जिसमें सुपर नेचुरल बातें होने के बावजूद इंसानी पहलुओं को नजर अंदाज नहीं किया गया है। बतौर निर्माता अनुष्का शर्मा अभी तक की अपनी तीनों फिल्मों-‘एन.एच.10’, ‘फिल्लौरी’ और अब ‘परी’ से अपनी एक अलहदा जमीन तलाश रही हैं। स्वाभाविक है कि इस तलाश में उन्हें ठोकरें भी मिलेंगी लेकिन उनकी इस हिम्मत की तारीफ बनती है कि मसाला सिनेमा के पाले से आने के बावजूद वह एक अनदेखे, अनजाने मैदान में पांव टिकाने की कोशिशें कर रही हैं। प्रोसित राॅय के निर्देशन में संभावनाएं दिखती हैं। अनुष्का शर्मा अपने अभिनय से प्रभावित करती हैं तो प्रमब्रत चटर्जी अंडरप्ले करते हुए असर छोड़ते हैं। रजत कपूर, ऋताभरी चक्रवर्ती, दिब्येंदु भट्टाचार्य व तमाम दूसरे कलाकार उम्दा काम करते दिखे हैं। कैमरे के दृष्टि और बैकग्राउंड म्यूजिक से अपेक्षित असर सामने आ पाया है। कोलकाता शहर की बारिश भी इसमें एक किरदार के तौर पर दिखती है और जेहन में बाकी रह जाती है। इस फिल्म की कहानी आम दर्शकों के लिए थोड़ी क्न्फ्यूजन भरी हो सकती है। डराने वाले दृश्यों से ज्यादा दहलाने वाले दृश्यों का होना भी हाॅरर पसंद करने वालों को अखर सकता है।कहानी का ट्रीटमैंट लीक से हट कर है और मुमकिन है नींबू-मिर्ची की आदत लगा बैठे दर्शकों को यह न पसंद आए। लेकिन अगर सचमुच हाॅरर के दायरे में कुछ हट कर देखने का मन हो,कुछ मैच्योर किस्म का समझ में आता हो तो यह फिल्म आपको पसंद आएगी और याद भी …

Read More »