Tag: rajkummar rao

Ek Ladki Ko Dekha Toh Aisa Laga Movie Review by Deepak Dua

Ek Ladki Ko Dekha Toh Aisa Laga Movie Review  by Deepak Dua   रिव्यू-‘एक लड़की…’ को दिमाग से नहीं, दिल से देखिए दीपक दुआ…  किसी लड़की को देख कर मन में खिलते गुलाब, शायर के ख्वाब,उजली किरण, बन में हिरण,चांदनी रात… जैसी फीलिंग्स आने में कुछ अजीब नहीं है। लेकिन अगर किसी लड़की के लिए ये सारी फीलिंग्स किसी लड़के के नहीं बल्कि लड़की के मन में रही हों तो…? जी हां, यही इस फिल्म यानी ‘एक लड़की को देखा तो ऐसा लगा’ की कहानी का मूल है कि इसमें नायिका को किसी लड़के से नहीं बल्कि एक लड़की से प्यार हुआ है। अब भले ही ये ‘प्यार’ उसके परिवार, समाज और दुनिया वालों की नज़रों में गलत हो और उनकी नज़र में यह लड़की ‘बीमार’ या ‘एब्नॉर्मल’, लेकिन सच यही है कि ऐसे भी लोग इस दुनिया में हैं और यह फिल्म इन्हीं लोगों के बारे में बात करती है-बिना किसी पूर्वाग्रह के, बिना किसी फूहड़ता के। समलैंगिकता की बात करती हमारे यहां की ज़्यादातर फिल्में या तो ऑफ बीट किस्म की रहीं हैं या फिर बी-ग्रेड वाली। ऐसे में डायरेक्टर शैली चोपड़ा धर तारीफ की हकदार हो जाती हैं कि उन्होंने बतौर निर्देशक अपनी पहली ही फिल्म में न सिर्फ इस किस्म के साहसी विषय को चुना बल्कि उस पर लोकप्रिय सितारों को लेकर मुख्य धाराके सिनेमा में इस कहानी को कहने की हिम्मत दिखाई। शैली और उनकी को-राइटर गज़ल धालीवाल की तारीफ इसलिए भी ज़रूरी है कि उन्होंने इस कहानी को न तो फूहड़ होने दिया, न उपदेशात्मक और न ही उन्होंने इसमें किसी किस्म के नारी-मुक्ति के झंडे लहराए। फिल्म में हंसी-मज़ाक का फ्लेवर रख कर जहां इसे भारी होने से बचाया गया है वहीं इस नाज़ुक विषय को उन्होंने कहीं पटरी से उतरने भी नहीं दिया है। इस फिल्म की कहानी को पंजाब के एक छोटे-से शहर मोगा के एक परंपरागत पंजाबी परिवार में दिखाना भी समझदारी ही कहा जाएगा।कहानी दिल्ली-मुंबई-बंगलुरू जैसे किसी बड़े शहर में या किसी आधुनिक, आज़ाद […]

Shaadi Mein Zarur Aana movie review

रिव्यू-यह शादी कुछ मीठी-तीखी-फीकी   -दीपक दुआ… शादी वाली फिल्मों की लाइन लग चुकी है। फ़िल्म वालों की यह भेड़-चाल कुछ अच्छी तो कई खराब फिल्में लेकर आने वाली है। लेकिन हर फिल्म ‘तनु वेड्स मनु’ नहीं हो सकती, यह तय है। आप को कम मिठास वाली ‘बरेली की बर्फी’ से भी काम चलाना होगा। […]

रिव्यू-न्यूटन-‘न्यू’ है और ‘टनाटन’ भी…

रिव्यू-न्यूटन-‘न्यू’ है और ‘टनाटन’ भी… –दीपक दुआ…   मां-बाप ने नाम रखा था नूतनकुमार। लोग सुन कर हंसते थे तो उसने दसवीं के फॉर्म में ‘नू’का ‘न्यू’ कर दिया और ‘तन’ का ‘टन’। अब न्यूटन कुमार(राजकुमार राव) सरकारी नौकर हैं और नियम-कायदे के पक्के। लोकसभा चुनाव में बंदे की ड्यूटी लगती है छत्तीसगढ़ के नक्सली इलाके के एक छोटे-से गांव में जहां सिर्फ 76 वोटर हैं। वहां मौजूद सुरक्षा बल की टुकड़ी का मुखिया आत्मा सिंह (पंकज त्रिपाठी) चाहता है कि बस, किसी तरह से वोट डल जाएं और आज का यह दिनबीते। लेकिन न्यूटन बाबू हर काम पूरे नियम और कायदे से करेंगे, चाहे खुद की जान पर हीक्यों न बन आए।   दुनिया का सबसे लोकतंत्र भारत और उस लोकतंत्र का सबसे बड़ा उत्सव आम चुनाव।गौर करें तो इन चुनावों के मायने नेताओं के लिए, चुनाव करवाने वाले कर्मचारियों के लिए, सुरक्षा बलों के लिए और जनता के लिए अलग-अलग होते हैं। 76 वोटर वाले इस गांव की किसी नेता को फिक्र नहीं है। लेकिन न्यूटन ट्रेनिंग में मिली सीख-स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव करवाने पर तुला है। न्यूटन की यह जिद उसकी टीम के लोकनाथ बाबू (रघुवीर यादव) की सोच और आत्मा सिंह के रवैये पर भारी पड़ती है।बूथ लेवल अधिकारी के तौर पर इस टीम से जुड़ी स्थानीय टीचर मल को नेताम (अंजलि पाटिल) की टिप्पणियां चुभते हुए अलग ही सवाल पूछती हैं। असल में वह मल को ही है जो इन शहरी बाबुओं को बताती है कि यहां के आदिवासियों के लिए चुनाव कितने गैर जरूरी हैं।वोट दें तो नक्सली मारेंगे और न दें तो पुलिस। हमें क्या चाहिए, यह कोई नहीं पूछता, जैसे छोटे मगर चुभते संवाद फिल्म को गहराई देते हैं और न्यूटन, लोकनाथ व आत्मा के बीच के संवाद लगातार एक चुटीलापन बनाए रखते हैं। चाहें तो इस फिल्म को कुछ हद तक एकब्लैक कॉमेडी के तौर भी देख सकते हैं। कुछ एक सिनेमाई छूटों और चूकों को नज़र अंदाज़ करते हुए देखें तो यह फिल्म लीक से हट कर बनने वाले सिनेमा की एक उम्दा मिसाल है।     निर्देशक अमित वी. मासुरकर के अंदर ज़रूर कोई सुलेमानी कीड़ा है जो उन्हें बार-बार लीक से हट कर फिल्में बनाने को प्रेरित करता है। अपनी पिछली फिल्म ‘सुलेमानी कीड़ा’ के बाद वह एक बार फिर अपनी प्रतिभा का बेहतरीन प्रदर्शनकरते हैं। एक्टिंग सभी की कमाल की है। राजकुमार,रघुवीर यादव, पंकज, संजय मिश्रा, सभी की। अंजलि तो आदिवासी ही लगने लगी हैं अब। उन मुकेश प्रजापति का काम भी बढ़िया है जो चुनावी टीम का हिस्सा हैं लेकिन उन्हें संवाद बमुश्किल ही मिले।  यह […]